Saturday, 17 February 2018

The journey of "facilitator in me"

“I really liked the workshop, for the first time we were not given lectures or instructions, rather there were conversations, digging in our lives and engaging with each other to actually build understanding on gender.”
“There were so much openness, nothing was forced, no definitions no accusations in the name of gender”

As I entered the room with 50 police trainees, their superiors, I was scared, there was lot of emotions running in my head, my hands were sweating and somehow I was slightly trembling! I was facilitating a two day long workshop for the very first time that too with the police, along with designing the sessions on my own. There was constant struggle going on as to how I would engage with them, will they understand or how will they respond to it and others. 

I remember how I was not considered good enough to even facilitate 2 hour session forget about designing one. Though I facilitated a full day workshop, there was constant nagging as to someone would teach me how to facilitate, with all such speculations around my abilities I used to get nervous! But here I was standing on my own dealing with lot of judgments and curious faces looking at me. I took a deep breath and started by greeting the participants and at that moment, all my fears, the judgments around me melted away because this work is part of me, I breath in gender work and with time the personal connect to the issue has just strengthened.

I don’t know what does it mean to be a facilitator, or its technicalities or what actually is facilitation? For me, facilitation is as simple as co-creation of spaces where people can share their feelings, thoughts and experiences around gender and violence without feeling judged and build an understanding on the same. So, all the activities which were designed for the 2 day intervention were participatory, group sharing, mind mapping, role plays and games. With every activity, I could see myself stretching my comfort zone with confidence. The first session on gender was more of sharing in the small group on “messages they have received because they are boy” followed by Chinese whispers and co-creating gender story leading to explaining what is gender? It was interesting for me, because I loved the story telling part and I was doing it almost after 2 years, still it came in flow and sync with the participants.

This was also the first time, when we were engaging with Patriarchy – the term looks really big and distant for beginners, I remember when I first heard it- it was like a social worker jargon, so I made sure that instead of saying the word aloud, we could use lot of examples from the sharing on gender differences in various spaces and then come to Patriarchy and at the same time it should attack as if all men are responsible for the violence. 

The next session on gender based violence turned out to be challenging, intriguing and at the same time questioning the structure as to how a facilitator should react or behave during the workshop?  
“I want to have 5 min where I could say what I want to, can you assure me that no one disturbs me. I am apologizing beforehand, and I really don’t wish to offend anyone especially you because you have come here to give training. But since you are giving us space and time to share our thoughts, I am tempted to share”, shares a participant

“go ahead”” I nodded

“Firstly I don’t understand why are we having these workshops, because all these workshops talk about problems, last time one mam came she also talked about problems. Why don’t we talk about solution? Secondly I believe that all these problems have got nothing to do with gender because such things can happen to anyone. Also I feel it’s all about karma, or more likely tit for tat, if you have done something wrong you have to pay for it. That’s what a universal truth is! My family is doing very well, no one does interfere in anyone’s stuff, all is good we are blessed. Lastly I get a feeling that some man has hurt both of you very badly that you have started talking about gender.”

Half a day I had just passed, and I was astonished to hear such words from someone who will be posted as police officer! Before I could respond, one participant raised his hand and began, “they are not talking about problems or blaming anyone, you see those charts on the wall where we have written gender differences in various spaces, you don’t have to do that- and that’s the solution”

They are not giving us lectures, they are not forcing their ideas of gender on us, instead they have given us a space to think and reflect on the things that we do in our lives without realizing that we are creating inequality and snatching freedom from women”

I took a deep breathe, i had two options- either to let them go on with blaming each other, or taking the ownership of my vulnerable feelings which were forcing me to break the structure of calm, composed facilitator. I chose the latter; I believe that if I am not honest with my thought process and vulnerability then that truth won’t reflect in the conversations ahead.

So, with all my heart, I reacted telling him that he has no right to attack me personally, I shared my personal connect with the gender work, also I spoke how his ‘tit for tat’ theory not only infuriated me but hurt me at the same time giving out examples of various gender based violence incidents. Talking about the solutions, I explained how there are hardly spaces where we could have conversations around gender and reflect on it- until and unless we know the roots of problem how can we talk about solutions and more over solution is what action we decide to take once we are aware of the problem- and that’s what I have been doing over a year. Listening to the participant and sharing what was going on my mind was very tricky, difficult and I almost felt naked in terms of feelings. But then this actually changes the whole scenario of the workshop – the participants actually opened up including the one would initiate the question. 

The day ended with the role plays where the participants had to enact on the given situation. The plays were really beautiful reflecting their understanding of gender and gender based violence, but one play will always remain in my heart.

“During the play, the participant who was a police officer comes home and sees that his wife is on bed and food was not cooked. He gets angry and scolds her, but while he is in a room he remembers (thinking aloud) that some years back Purvi conducted a workshop on gender where we spoke about gender differences and I end up doing the same. This is not right and then he goes back calls doctor, cooks for his wife and takes care of her”

I was stumped, my heart was beating faster, god if these people actually remember this workshop and implies this way in their personal life, and my battle is already won. I was beaming with happiness.
The first day went fairly well, but still it was emotionally draining and consuming. However thinking about the next day was sending chills down my spine because I will be doing this activity for the very first time, it involves personal and very intimate sharing by the participants around gender based violence. I didn’t know whether anyone would feel safe enough to let their vulnerable feelings out, to take that one step ahead to accept that such an incident had happened in their life considering the impact of masculinity on them where they are trained to keep their emotions to themselves and be strong. The day began with one of the participant sharing “I was thinking about the workshop a lot while I went to my room. Since we get little time to speak to our family on phone, I used to get furious when my wife sounded tired and sleepy over phone. But yesterday I didn’t pressurized her to speak to me, I could feel that she was tired so instead I told her to take rest”

So, I carefully explained the activity “common ground” putting an extra emphasis on the agreements, inviting them to take a stretch to take the opportunity to unburden their heart with all the emotions that they have been holding on to them. And then I said the first statement, my heart was actually sinking with the mere thought that no one will take a step forward, but 4 of them took the step, their eyes were full of trust and their bodies reflected their vulnerabilities. Then one after another statement, I saw the participants opening up, gaining that trust and support and taking one step ahead. The whole activity has gone really intense because of the strong statements so to ease it, in between all of us were taking deep breaths together and letting out emotions without words. It was indeed very powerful and magical and something at that moment changed in me. 

Once the common ground activity was over, I invited the participants to share their feelings or the incident about which they thought while taking the step ahead in the circle while a particular statement was said aloud again assuring the trust and support. It was extremely overwhelming to hear the participants share their stories of pain, regret, trauma, violence- be it parental, societal, expectation, failure, relationships, drug abuse, stress, suicidal thoughts and depression. I was actually very nervous and scared while hearing these stories, at the same time supporting the circle with my complete presence and trust. Never in my life could I imagine that I can co-create a space where people would share their stories which they have never shared with anyone before with 50 individuals. 

“I don’t know what you have done here, I have never shared this story with anyone in my full consciousness, whenever I did share I was totally drunk and wasted. But here, I feel safe and comfortable to let my heart speak”
“We have been here for almost 7 months, but never had we got a chance to sit like this, say our stories and listen to other people. It is very soothing and seems a huge burden is moved from my heart”
“I have been hurting since years blaming myself, I have never shared this with anyone but here I could say it so easily like all of you would just understand” 

It was also interesting to see that all these participants were behaving like children, being so vulnerable leaving all that ‘I am strong man image’, going to each other talking, hugging each other, flocking in groups and were not ready to leave the workshop space even for lunch. To our surprise they were back from Lunch 10 mins before.  The next session on ‘Power and how police in power position can curb gender based violence” followed by promise wall went really well. 

The closure of the 2 day workshop involved filling up of assessment form and open circle sharing about their experiences.

“I have grown up understanding that women are meant just for cooking food, cleaning dishes and clothes, obeying orders and men mean earning for home, being all strong – so when you constructed gender story, I was taken aback, nobody had explained anything like this in such a easy and convincing manner, that I could actually feel that so much wrong I have learnt while growing up”

“It was difficult for me to think that cooking food by women could also be a violence, but then you said if I am told to cook food for next 25 years all three times without any salary. It was so unimaginable to even think and then picture of my mother surfaced in my brain – I was shocked and sad at the same time, nobody including me ever asked whether she wants to cook or not, we keep demanding various things but never even tried to help her”

“I am gonna learn cooking, whenever I go back home I will cook for my mother and also motivate my brother so when I am not there he can help her in household chores without feeling ashamed ”  

“Also I understood, that we are not doing any favor to women in our life by helping them, that’s what they deserve, so instead of helping them we would support them with opportunities”

“This was one of a kind workshop where I spoke so much and even listened, I am not going to let this thing go and will speak about this to my friends, family as well as relatives”

“Can you stay for one more day, there is so much to talk about, please say that the workshop is not over”

“Now that, we have understood gender, while we go to the different villages on weekend for our duties, we can perform a natak and engage on gender with the villagers”

“Can you tell me how can I engage youth from my village so that they can also initiate gender conversations in my home town?”

My heart swelled with happiness and love on hearing feedback after just 2 day engagement on gender issues. Before I could say anything else, one of the participant asked me “You have asked us how are we feeling, I want to ask you what was it like to engage with us for 2 days?”

You know what I loved this statement, this made my day because whenever I loved some workshop and really enjoyed someone’s facilitation I asked the same question and at present a participant asked me this! Trust me I was on cloud nine and I was filled with gratitude. I could just fold my hands and express my gratitude towards each of the participants for trusting me and giving their 100 % in the workshop. I was beaming with happiness and I could see the same on their faces :-)

As the workshop came to closure, and we were leaving, all of them flocked around us talking constantly and bidding goodbye to us. But, in my heart I knew that this is just the beginning and these memories will occupy a special place in my heart forever and all I could feel was gratitude and completeness :-)

जेंडर आधारित हिंसा को चुनौती देती वादों की दीवार :-)

मैं जब से दुनिया को जानने और समझने लगा तभी से मेरी अंतर आत्मा में चलता था कि महिला और पुरुष में इतना भेद क्यों है? और मुझे पता नहीं था कि मैं क्या कर सकता हूं। तो आज मैं प्रण लेता हूं कि ये फर्क खत्म करने की शुरुआत में अपने घर से करुंगा और ये बदलाव का पहला कदम होगा

मैं वादा करता हूं कि धर्म पत्नी के साथ साथ कभी भी उसकी सहमति के बिना यौनिक संबंध नहीं बनाऊंगा

पिछले कुछ सालों में जेंडर पर काम करते हुए कई बार लगता है कि जेंडर आधारित हिंसा कितनी गहन समस्या है क्योंकि इसकी जड़ मानसिकता में छुपी हुई है, जेंडर भेदभाव जीवन का ऐसे हिस्सा बन रखा है कि वो अलग या फिर गलत लगता ही नहीं। कई बार समझ नहीं आता कि किन लोगों के साथ जेंडर पर समझ बनाने से बदलाव आएगा, कितने घंटे की कार्यशाला होनी चाहिए? क्या दो घंटे में किसी को जेंडर समझ आ सकता है या फिर दो दिन में जेंडर से जुड़े अलग-अलग मुद्दों पर बात करने से मानसिकता बदलेगी, या फिर धीरे धीरे लगातार बात करनी चाहिए? क्या बच्चों के साथ जेंडर पर काम करना काफी है क्योंकि जिस परिवार या स्कूल में जाते हैं वहां तो लोगों की सोच वहीं है? पर हर बार किशोर-किशोरियों, महिलाओं और युवाओं के साथ काम करते हुए बदलाव की एक नई राह देखने को मिली।

उज्जैन में पुलिसकर्मियों के साथ जेंडर, हिंसा और सत्ता पर वर्कशॉप आयोजित करने का मुख्य उद्देश्य ये रहा कि पुलिस के पास मजबूत सत्ता है, अगर वो जेंडर के प्रति जागरुक होकर अपनी ड्यूटी निभाएंगे तो जेंडर आधारित हिंसा पर काबू पाया जा सकता है। लेकिन इन दो दिनों में जो हुआ उसे बयां करने के लिए मेरे शब्द शायद कम पड़ जाए।

दूसरे दिन का सत्र शुरु होने से पहले ही एक प्रतिभागी ने कहा, मैडम पहले दिन की बातचीत ने बहुत कुछ बदल दिया है। पुलिस की ट्रेनिंग में हमें बहुत कम समय मिलता है परिवार से बात करने के लिए। कई बार मेरी पत्नी बात करने के समय काफी थक जाती थी और मैं उसपर फोन पर ही गुस्सा करने लगता है। लेकिन कल मैंने ऐसा नहीं किया। उसकी आवाज़ में थकावट को महसूस किया और उसे सोने के लिए कह दिया। मुझे बहुत बुरा लगा कि वो इतना थकने के बाद भी मुझसे बात करने के लिए जगती है।

वर्कशॉप का दूसरा दिन काफी भावनाओं को देखते हुए काफी भारी था लेकिन इससे प्रतिभागियों के बीच एक दूसरे के लिए आत्मीयता बढ़ी और साथ ही वो एक दूसरे से ज्यादा बात करते हुए भी नजर आए।

वर्कशॉप के आखिर में एक जो बेहद रोचक और अहम प्रक्रिया रही– वादों की दीवार यानि प्रॉमिस वॉल। क्योंकि हम पुलिस को सत्ता का प्रतीक समझते हैं ऐसे में मैंने प्रतिभागियों को कोई एक ऐसा वादा लेने के लिए आमंत्रित किया जिससे वो अपने जीवन में जेंडर के एक नियम को तोड़ पाएंगे- वो वादा छोटे से छोटा हो सकता है। मुझे लगा था कि प्रतिभागी अपने कार्यस्थल या फिर पुलिस से जुड़ी जिम्मेदारियों को लेकर कोई वादा करेंगे, लेकिन उन्होंने अपने निजी जीवन से जेंडर की धारणा को तोड़ने की शुरुआत की, ये काफी हैरान करने और बदलाव की नई मिशाल तैयार करने जैसा रहा। क्योंकि सच तो यही है कि अक्सर हमें लगता है कि हमें समाज में बदलाव करना चाहिए इसलिए हम बाहर से शुरुआत करते हैं पर यहां पुलिसकर्मियों ने अपने घर से जेंडर की जड़ों को काटने के लिए एक कदम आगे बढ़ाया।

मैडम आपने काफी अच्छे तरीके से, हमें पूरा मौका दिया कि हम अपनी बात सामने रख पाए और जेंडर को समझ पाए। हो सकता है यहां से जाने के बाद कई लोग वैसा ही व्यवहार करें। पर मैं घर जाकर अपनी मम्मी के साथ खाना बनाने में मदद करुंगा, कभी कभार खुद भी खाना बनाऊंगा। अगर मेरा भाई भी ये देखेगा तो वो भी मम्मी के साथ काम में हाथ बटाएगा। और हमारे कामों को देखकर दूसरे लोग भी ऐसा करेंगे।
कुछ ऐसे ही वादे कई प्रतिभागियों ने अपना समय लेकर लिखे और एक वादों की दीवार का निर्माण किया-

मैं वादा करता हूं कि मेरे बच्चों में यानि लड़का और लड़का में कोई अंतर नहीं रखूंगा, जहां तक हो सकेगा बराबर का अधिकार दूंगा
घर में मैं अपनी मां और दूसरे सदस्यों के साथ काम में सहायता करूंगा
जरुरत पड़ने पर घर के अंदर के कामों में खुशी-खुशी और अन्य कामों में महिलाओं का साथ देंगे
मैं कोशिश करुंगा कि अपने जीवन में जेंडर आधारित हिंसा नहीं करुंगा
मैं अपनी आनेवाली बच्ची या बच्चे की पढ़ाई में कोई अंतर नहीं रखुंगा और जब तक वो पढ़ना चाहेंगे तब तक पढ़ाने की कोशिश करुंगा
मैं अपनी माता, बहिन, पत्नी की इच्छाओं का उतना ही सम्मान करुंगा जितना मैं स्वंय की इच्छाओं का करता हूं
मैडम आपकी वर्कशॉप में हिस्सा लेकर ह्दय परिवर्तन हुआ है। मैं अपनी पत्नी को समान हक देने के साथ साथ जितना वो मेरा सम्मान करती है मै भी उसका उतना ही सम्मान करुंगी
हर छोटे-बड़े मुद्दों पर हम पति-पत्नी मिलकर विचार करेंगे और आपसी सहयोग की भावना रखूंगा
मेरी शादी जब भी होगी तो मैं उसकी हर चीज में उसका साथ दूंगा। और जो भी मैंने सीखा है मैं अपनी घर में इस बारे में जरुर बात करुंगा
मैं स्वंय से वादा करता हूं कि मैं किसी भी महिला को गलत नजरों से नहीं देखूंगा और मेरे संपर्क में आने वाले हर शख्स को इसी बात के लिए प्रेरित करुंगा
मैं अपनी पत्नी की मदद से खाना बनाना सिखूंगा और उसकी मदद भी करुंगा
मैं अपनी पत्नी क साथ टर्न-टर्न घर का काम करुंगा
मैं जेंडर को लेकर अपने परिवार, मित्रों और रिश्तेदारों को जागरुक करुंगा
मैं महिलाओं के साथ कदम से कदम मिलाकर चलूंगा उनकी भावनाओं को समझकर फैसला लूंगा
मैं आज से अपने परिवार में उपस्थित महिलाओं पर अपना काम कभी नहीं थोपूंगा। अपना काम खुद करुंगा
मैं किसी भी व्यक्ति या महिला के साथ हुए शोषण या अत्याचार के खिलाफ न्याय दिलाने में उसका पूरा सहयोग प्रदान करुंगा
मैं कभी भी स्त्री को हीन भावना से नहीं देखूंगा, हमेशा उसकी इज्जत करुंगा और सम्मान करुंगा
मैं कभी भी महिलाओं से ऊंची आवाज़ से या क्रोध से बात नहीं करूंगा

किसी काम को सिर्फ इसलिए करना क्योंकि वो आपकी जिम्मेदारी है, आपको उसे करने के आदेश मिले है या फिर वो आपकी कमाई का जरिया है उसमें और किसी चीज को इसलिए करना क्योंकि आपको लगता है ये कदम उठाना जरुरी है और उससे आपका निजी संबंध है में काफी फर्क होता है। ये पुलिसकर्मी जब कार्यशाला में पहले दिन आए थे तो आदेशानुसार आए थे लेकिन अब वो जेंडर पर न सिर्फ खुलकर बातचीत कर रहे हैं बल्कि इस फर्क को बदलने के लिए अपने घर से शुरुआत कर रहे हैं। मैं बेहद खुश थी, अगर इन 50 लोगों में से कुछ लोग भी इस समझ को अपने जीवन में उतार पाए तो मैं समझूंगी कि मैंने अपनी जिम्मेदारी पूरी की है J

पुलिस, सत्ता और जेंडर आधारित हिंसा

उज्जैन में पुलिसकर्मियों के साथ दो दिवसीय जेंडर और जेंडर आधारित हिंसा पर बातचीत अधूरी रहती अगर हम सत्ता पर विस्तार से समझ नहीं बनाते, क्योंकि जेंडर आधारित हिंसा की जननी सत्ता और उससे उपजी गैर बराबरी है। सत्ता क्या है, कौन है जो सत्ता में है, सत्ता के जातक, क्या सत्ता केवल नकारात्मक होती है? और बतौर पुलिसकर्मी आपके पास कानून की जो सत्ता है उसको कैसे इस्तेमाल करके जेंडर आधारित हिंसा को चुनौती दी जा सकती है इन सभी बिंदूओं पर हमने बातचीत की।

अपने निजी जीवन में जेंडर आधारित हिंसा को देखना और बाकी प्रतिभागियों के साथ बांटना भावनात्मक तौर पर काफी भारी रहा, ऐसे में उनको कुछ समय देना जरुरी था ताकि वो अपने मन में चल रही भावनाओं के साथ रहे और उनसे तालमेल बना पाए। इस ब्रेक के बाद सभी प्रतिभागियों को 3-3 के समूह में बांटा गया और एक-एक पहचान दी गई उदाहरण के तौर पर ब्राह्मण पुरुष, मुस्लिम लड़की, विकलांग अमीर लड़का, पुलिस अधिकारी आदि। 

पॉवर वॉक के जरिए प्रतिभागियों को अलग- अलग परिस्थितियों में डाला गया, अगर उनकी पहचान इन परिस्थितयों में अपना अधिकार हासिल कर सकती है या नहीं, उस आधार पर उन्हे आगे बढ़ने या फिर पीछे कदम रखने के लिए कहा गया। ये प्रक्रिया काफी अहम थी पहली इसलिए क्योंकि तीन लोग को एक पहचान दी गई थी, उन्हें इस पर एकमत होकर फैसला लेना था- तो यहां दो तरह से सत्ता काम कर रही थी: एक हमारे द्वारा दी गई पहचान और दूसरी समूह में फैसला लेने वाले शख्स की।
इस पॉवर वॉक में कौन सबसे आगे रहा, कौन अपनी जगह से कुछ कदम आगे बढ़ पाए और कौन अपनी निर्धारित जगह से पीछे चले गए- प्रतिभागियों ने अपनी अपनी पहचान बड़े समूह में बताई और साथ ही ये बताया कि किन परिस्थितियों की वजह से वो आगे कदम बढ़ पाए और किन में उन्हें पीछे जाना पड़ा।

मैं पुलिस अधिकारी हूं, ऐसे में पता नहीं मेरी पोस्टिंग कहां हो तो पिता के दाह संस्कार में आ पाऊं या नहीं, इसकी अनुमति मेरे उच्च अधिकारी पर रहेगी इसलिए मैंने एकदम पीछे बढ़ाया
मैं दलित लड़की थी, ऐसे में मेरा 8वीं तक पढ़ना, घर से शाम या रात में बाहर निकलना, शारीरिक संबंध के दौरान कंडोम के प्रयोग पर अपने पार्टनर को राजी करना क्योंकि शायद मुझे इस बारे में पता नहीं होगा और दाह संस्कार के बारे में तो भूल जाओ। इसलिए मैं बहुत पीछे रह गई
अमीर विकलांग लड़का- मुझे कुछ परिस्थितियों में पीछे जाना पड़ा जैसे अगर शहर में दंगा होता है, कोई लड़की से छेड़खानी कर रहा है, टू विहलर चलाना पर क्योंकि मैं अमीर हूं इसलिए काफी चीजें आसान भी रही।
बतौर महिला पुलिस अधिकारी, कार्यस्थल पर मेरी सत्ता रहेगी, पुरुष भी मेरी बात सुनेंगे, पर घर पर मेरा पति मुझ पर हावी हो सकता है, और उसके फैसले मुझे मानने पड़ेगे
बतौर शादीशुदा महिला, अपने पार्टनर को कंडोम का इस्तेमाल करने पर, रात को दूसरी जगह रुकने, दाह संस्कार करने, प्रॉपर्टी में हिस्सा लेने, बर्तन धोने जैसी परिस्थितियों में मुझे पीछे हटना पड़ा   

प्रतिभागियों ने जिस तरह से अपनी पहचान और परिस्थितियों संबंधित फैसले सामने रखे वो सत्ता को समझने के लिए काफी मददगार साबित हुए, सत्ता क्या है और किस तरह जेंडर, यौनिक पहचान, क्लास, जाति, विकलांगता, धर्म और वर्ग से प्रभावित होती है या किस स्थिति में कौन सी पहचान हावी रहती है पर समझ बनाई गई। इससे ये भी पता चला कि किसी एक शख्स के पास हमेशा सत्ता नहीं रहती, किसी परिस्थिति में उसके पास सत्ता हो सकती है और दूसरी जगह वो सत्ताहीन हो सकती है।

इसके साथ ही सत्ता से प्रतिभागी क्या समझते है उसे माइड मैंपिंग के जरिए चार्ट पेपर पर उकेरा गया। सत्ता के नाम से अक्सर नकारात्मक शब्द या विचार सामने आते है लेकिन साथ ही सत्ता सकारात्मक हो सकती है- इसी बिंदू को पकड़कर हमने बतौर पुलिस सत्ता पक्ष पर चर्चा की।

सड़क पर हो रहे झगड़े में अगर कोई आम आदमी लड़ाई रोकने की कोशिश करेगा तो हो सकता है वो पीट जाए पर एक पुलिसकर्मी उस झगड़े को रोक सकता है
रात में किसी भी शख्स की गतिशीलता पर रोक लग सकती है, पर पुलिस स्वच्छंद होकर कभी भी कहीं भी जा सकती है
किसी आम आदमी के मुकाबले पुलिस न्याय दिलाने में हजार गुना सक्षम है
पुलिस जेंडर आधारित हिंसा को रोकने का काम कर सकती है, और जेंडर पर जागरुकता के बाद ज्ञान की सत्ता भी है हमारे पास

सत्ता पर आधारित सत्र अपने आप में जेंडर आधारित हिंसा को चुनौती देने वाला कदम साबित हुआ, क्योंकि सत्ता को प्रतिभागी अब अलग तरीके के देख और समझ पा रहे थे। बतौर पुलिस और आदमी की पहचान के साथ तो वो अपने आप को सत्ता में देख ही रहे थे साथ ही जेंडर पर अपनी समझ के साथ वो और जागरुक होकर अपने निजी जीवन और कार्यस्थल में भेदभाव हटाने के लिए खुद को सक्षम भी मान रहे थे।

Friday, 16 February 2018

अपने जीवन और समाज में जेंडर आधारित हिंसा पर समझ बनाते पुलिसकर्मी

महिलाओं द्वारा खाना बनाना किसी तौर पर भी हिंसा हो सकती है ऐसा सोच पाना नामुमकिन लगता था, पर जब आपने कहा कि अगले 25 सालों तक तीनों समय बिना सैलरी के अगर मुझे खाना बनाना पड़े, तो मैं घबरा गया। एकदम मुझे अपनी माता जी का ख्याल आया, मैंने तो कभी पूछा भी नहीं कि वो खाना बनाना चाहती है या नहीं, बीमारी में तकलीफ में वो खाना बनाती है, हमारी फरमाइश पूरी करती है। मुझे अपनी मां और पत्नी के लिए बहुत अजीब और बुरा लगा।

जेंडर और पित्तृसत्ता पर समझ बनाने के बाद हमारा अगला सत्र जेंडर आधारित हिंसा पर आधारित रहा। यहां एक बार फिर प्रतिभागियों को 6 अलग-अलग समूहों में बांटा गया और उन्हें एक वाक्य देकर पूछा गया कि क्या उनके मुताबिक ये वाक्य जेंडर आधारित हिंसा दर्शाता है। अपने समूह में बातचीत के बाद उन्हें चर्चा के मुख्य बिंदू सबसे सामने प्रस्तुत करने के लिए आमंत्रित किया गया।

पहले समूह के लिए वाक्य रहा- घर में खाना बनाना सिर्फ महिलाओं का काम है। उम्मीदों के मुताबिक किसी भी प्रतिभागी को नहीं लगता था कि ये भी एक तरह की हिंसा हो सकती है- चर्चा में कहा गया कि आदमी बाहर का काम करते हैं तो घर में बैठकर महिलाएं करेंगी क्या, कुछ तो करना ही है न। लड़कियां अच्छा खाना बना लेती है, उन्हें स्वाद की परख होती है। पर ऐसा नहीं है कि लड़कियां ही खाना बनाती है कई हॉटल में कुक मर्द होते हैं इत्यादि।

मुझे लगता नहीं कि खाना बनाना किसी भी तरह की हिंसा हो सकती है, शायद ये एक परिस्थिति से जुड़ी हिंसा हो सकती है

इस बात पर मैंने महज एक सवाल पूछा कि अगर कल सुबह से अगले 25 सालों तक आपको तीनों समय खाना बनाना पड़ेगा बिना किसी पगार के, और मैंने आपसे पूछा नहीं है मैं आपको बता रही हूं तब क्या?”
इस वाक्य को सुनते ही पूरे हॉल में सन्नाटा पसर गया, कुछ देर के लिए कोई कुछ नहीं बोला। फिर एक कोने से धीमे से आवाज़ आई, हां ये तो एक तरह की हिंसा ही हुई है, जहां शारीरिक तौर पर तो नहीं पर मानसिक तौर पर काफी दवाब पड़ेगा। कई बार मेरी मां बीमार हो जाती है तो भी उन्हें खाना बनाना पड़ता है, मैं तो हमेशा उनसे फरमाईश करता हूं कभी इस बारे में कुछ पूछा ही नहीं। ये सुनकर काफी अजीब लग रहा है।

दूसरा वाक्य- लड़कों को रोना चाहिए, क्योंकि मर्द को दर्द नहीं होता
एक प्रतिभागी ने कहा- मुझे लगता है जिस मर्द को दर्द नहीं होता वो मर्द ही नहीं है। इस समूह ने जिस तरह से चर्चा के बिंदू सामने रखे वो काबिले तारीफ रहा क्योंकि बड़े गोले में बैठे हर शख्स इस वाक्य पर अपनी राय रखना चाहता था और साफ पता चल रहा था कि कैसे लड़कों को रोने नहीं देना एक तरह की जेंडर आधारित हिंसा है और साथ ही हिंसा की जननी भी है। जब रोने नहीं दिया जाता तो दिमाग में प्रेशर बनते रहता है, सिर में बात घूमती रहती है, हम किसी से इस बारे में बात भी नहीं कर सकते क्योंकि दूसरे लोग सोचेंगे कि हम कमचोर है।

कई बार दिमाग में चल रहे प्रेशर की वजह से मैं नशे का सेवन करने लगता हूं। मैंने कई आदमियों को देखा है जो सिर्फ इस परेशानी, दर्द या दुख को अपने दिमाग से बाहर निकालने के लिए नशा जैसे दारू, सिग्रेरट या गांजा पीते हैं। नहीं तो दिमाग फट जाएगा, नशे की हालत में अपनी बात रखना आसान हो जाता है

तीसरा वाक्य- जो आदमी घर में काम करता है वो जोरु का गुलाम होता है- इस तरह के तानों और उलहानाओं को हिंसा की श्रेणी में रखा गया। शादी का मतलब ये नहीं है कि आप किसी को अपनी जरुरत को पूरा करने के लिए लाए हो, पार्टनर का मतलब है एक दूसरे का सहयोग करने वाला, साथ निभाने वाला अगर ऐसे में कोई आदमी अपनी पत्नी की मदद करता है तो इसमें कुछ गलत नहीं है, रही बात जोरु के गुलाम की तो ये एक धारणा से ज्यादा कुछ नहीं हैं

चौथा वाक्य- आदमी ने अपनी पत्नी को पीटा है, यानि उसने कुछ गलत किया होगा तभी पति ने हाथ उठाया
ये तो हिंसा है, किसी भी वजह से किसी पर भी हाथ उठाना गलत है। अक्सर आदमी बाहर काम से थककर आता है, या ऑफिस में डांट खाकर आता है, या फिर बाहर ऐसा कुछ हुआ है जिससे वो गुस्सा है। ऐसे में वो अपना गुस्सा निकालने के लिए छोटी छोटी गलतियों को ढूंढता है, गलती मिलते ही वो बिना सोचे समझे अपनी पत्नी और बच्चों पर गुस्सा निकालता है। एक बात ये भी है कि आप मार उसी को सकते हो जो शारीरिक तौर पर कमजोर हो। मैं थोड़े किसी पहलवान या खली के साथ जाकर भिड़ जाऊंगा। और घरेलू हिंसा इसलिए भी होती है कि हमारे समाज में बहुत कानाफूसी है, किसी ने मेरी बीबी के बारे में कुछ बोला, बिना उससे पूछे या बात किए मैं शक करने लगूंगा और हाथ उठा दूंगा

हमारे समाज में, घर परिवार में भी यहीं दिखता है न, पिता जी काम से थक हारकर आते है, छोटी सी गलती पर मां पर उठाते है, मां बिना कुछ कहे सुनती और पिटती है। ऐसे में हमें लगता है कि यही सही है, ऐसा ही होता है, इसलिए ज्यादातर लड़के बड़े होकर यही करते हैं
मुझे नहीं लगता औरतें कमजोर होती है, वो हम पर हाथ आराम से उठा सकती है, वो सिर्फ इसलिए हाथ नहीं उठाती क्योंकि वो हमारी इज्जत करती है

पांचवा वाक्य- औरतों को पर्दे में रहना चाहिए, क्योंकि छोटे कपड़े देखकर आदमी फिसल सकता है, और वो रेप कर सकता है।
पर्दा प्रथा अपने आप में ही हिंसात्मक चीज है क्योंकि ये आजादी छीन लेता है। पर्दे की वजह से गांव में महिलाएं अपने ससुर का फोन तक नहीं उठाती, किसी परेशानी की घड़ी में इसके काफी नकारात्मक परिणाम हो सकते है।ऐसे में तो पशु इंसान से अच्छे है क्योंकि वो तो कपड़े नहीं पहनते, ऐसे में तो हर किसी के साथ जबरदस्ती हो सकती है। स्पोर्ट्स में पीटी ऊषा हो या कोई महिला खिलाड़ी तो क्या वो साड़ी पहनकर खेल खेलेंगी? और अगर ऐसा ही है तो बच्चियों, बुजुर्ग महिलाओं के साथ ऐसी घटनाएं क्यों होती है

छठा वाक्य- बलात्कार का मतलब केवल जबरदस्ती सेक्स करना ही नहीं है
बलात्कार तो है ही हिंसा, लेकिन उसके बाद जो भी उनके साथ होता है वो उस हिंसा से बढ़कर होता है। पुलिस के सवाल, परिवार की पांबदी, केस दर्ज नहीं करने का दवाब, मेडिकल टेस्ट, रेप को परिवार की इज्जत से जोड़ दिया जाता है, बार बार उस बात का एहसास दिलाया जाता है कि यहां उसकी कोई गलती है। और कई बार आदमी बस अपनी इगो, ताकत दिखाने, बदला लेने, महिला की सम्मान को छति पहुंचाने के लिए रेप करता है

पुलिसकर्मियों द्वारा अलग अलग वाक्यों पर काफी विस्तार से चर्चा की गई, और जिस तरह से हर समूह ने बड़े ग्रुप के सामने अपने चर्चा के बिंदू रखे उसे देखकर ही समझ आ रहा था कि वो खुल रहे हैं और बिना झिझक के अपनी सोच और समझ सामने रख पा रहे थे। इसके साथ ही वो अपने जीवन में जेंडर आधारित फर्क को देख और महसूस कर पा रहे थे। मुझे ऐसा लगता है कि कार्यशाला की पहली सफलता यही होती है कि जब प्रतिभागी को इतना सुरक्षित महसूस हो पाए कि वो अपनी धारणाएं भी सामने रखने में घबराए नहीं, अपनी जिंदगी में झांक पाए औऱ उसे दूसरे प्रतिभागियों के साथ बांट पाए।

ग्रुप प्रेजेंटेशन और उस पर आधारित चर्चा से निकले अहम बिंदूओं को लेकर जेंडर आधारित हिंसा पर समझ बनाई गई। जेंडर आधारित हिंसा के प्रकार, किस तरह से वो हमारे जीवन को प्रभावित करता है और उसका विकराल रुप सभी जेंडर और यौनिक पहचानों को क्षति पहुंचाती पर विस्तार से बातचीत की गई।

एक छोटे ब्रेक के बाद जेंडर आधारित हिंसा के जब केस पुलिस के पास आते है, तो उनका पहली प्रतिक्रिया क्या होती है उस पर माइंड मैंपिंग की गई- ये प्रक्रिया काफी रोचक रही जहां खुद पुलिसकर्मियों ने अपने व्यवहार पर रोशनी डाली।

पहले दिन की आखिरी प्रक्रिया में हर समूह को अलग-अलग परिस्थिति दी गई जहां उन्हें आज के दिन में जेंडर पर बनी अपनी समझ और सोच को एक नाटक के जरिए प्रस्तुत करना था। मैं काफी हैरान और खुश थी क्योंकि नाटक की प्रस्तुति और तैयारी एकदम प्रोफेशनल तरीके से की गई, प्रतिभागी तैयारी में इतना खो गए कि उन्हें समय भी कम लगने लगा, हर परिस्थिति को उन्होंने बखूबी से सोचा और बेहद संवेदनशीलता से प्रस्तुत किया।

पहली परिस्थिति में एक महिला जिसके साथ रेप हुआ है वो पुलिस में शिकायत दर्ज कराने आती है, ऐसे में पुलिस द्वारा लगातार सवाल पूछे जाने या फिर शिकायत दर्ज करने में आनाकानी की जगह- एक महिला कॉन्सटेबल उसके साथ बैठती है, उसे पानी पिलाती है और अगर वो अपने साथ हुई वारदात के बारे में बात करना चाहती है तो उसकी बात पूरी तरह सुनती है। इसके बाद न सिर्फ उसकी शिकायत दर्ज की जाती, बल्कि उसके परिवार वालों को समझाया जाता है, और कम अंतराल में आरोपियों को पकड़कर कोर्ट में पेश किया गया।

दूसरी परिस्थिति में एक महिला अधिकारी अपने सीनियर पुलिस अधिकारी के खिलाफ यौन शोषण की शिकायत दर्ज कराने आती है- ये परिस्थिति काफी मुश्किल थी, ऐसे में इस समूह ने काफी रोचक तरीके से दिखाया कि कैसे आरोपी पुलिस अधिकारी अपनी सत्ता का इस्तेमाल करके केस को खारिज करने के लिए दूसरे पुलिस अधिकारी पर दवाब बनाता, नौकरी छीनने या फिर ट्रांसफर की धमकी देता है। इसके साथ मीडिया का दवाब भी दिखाया,पहले इंचार्ज पुलिस अधिकारी घबराता है, केस फाइल करने में हिचकिचाता पर बाद में ये बात वो अपने सीनियर अधिकारी से बांटता है और उनसे चर्चा करने आरोपी पुलिस अधिकारी के खिलाफ केस फाइल करता है। मुझे लगता है कि अगर ये समूह ऐसा सोच पा रहे है तो ये बहुत बड़ी बात है क्योंकि आर्मी और पुलिस में अपने सीनियर के खिलाफ जाना लगभग नामुमकिन सा माना जाता है।

तीसरी परिस्थिति – पुलिस स्टेशन में आपका दिन काफी परेशानी और थकावट भरा रहा है, आप गुस्से में हो। जब आप घर पहुंचते तो सारा घर बिखरा पड़ा है, कहीं साफ सफाई नहीं है, खाना भी नहीं बना है और आपकी बीवी बिस्तर पर सो रही है। इस परिस्थिति को तीसरे समूह ने शुरुआत में जैसे प्रस्तुत किया उसने मुझे परेशान कर दिया था क्योंकि नाटक में पति हमेशा की तरह बीबी पर चिल्लाता है, गुस्सा करता और ताने देता है। पर कुछ सेकेंड में उन्होंने दिखाया कि कैसे वो सोच में पड़ जाता है और उसे याद आता है कि कुछ साल पहले उसने एक जेंडर और हिंसा पर आधारित ट्रेनिंग ली थी जहां इस बारे में चर्चा हुई थी, वो खुद को कोसता है और सोचता है कि कैसे वो फिर इतना असंवेदनशील हो गया। अपने मन के अंतरद्वध को शांत करते हुए वो डॉक्टर को बुलाता है, और अपनी बीमार पत्नी के लिए खाना बनाता है। इस दिन की कई खूबसूरत बातों में से ये भी एक दिल को छूने वाली बात रही।

चौथी परिस्थिति- एक सेक्स वर्कर आपके पुलिस स्टेशन में अपने पति के खिलाफ घरेलू हिंसा की शिकायत दर्ज कराने आती है। मुझे काफी डर था कि कैसे पुलिसकर्मी इस परिस्थिति को नाटक के जरिए प्रस्तुत करेंगे? लेकिन मेरे डर के विपरित उन्होंने दिखाया कि बिना किसी उलहाना के उन्होंने सेक्स वर्कर का केस दर्ज किया, उसके पति को गिरफ्तार किया और कानून का पालन किया। अगर तुम्हारी पत्नी सेक्स वर्कर है, तो वो पैसा कमाती है। तुम तो कुछ काम नहीं करते वो उसका रोजगार है जिससे वो अपना और घर का पालन पोषण कर रही है, तुम महज उसका इस्तेमाल करते हुए सारा पैसा दारू में बहा देते हैं? उसके रोजगार की वजह से तुम उस पर हिंसा करो, ये किसी को अधिकार नहीं है और कानून जुर्म है।

पहला दिन भावनात्मक तरीके से काफी भारी रहा, ऐसा इसलिए भी क्योंकि जेंडर और हिंसा पर समझ बनाना खुद के जीवन और मानसिकता में झांकना होता है, पुलिसकर्मियों की बातचीत, वाद-विवाद और आखिर में नाटक ने पूरे दिन को एक नए तरीके से रच दिया था। मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि पुलिसकर्मी जिनके लिए आम जनता की इतनी कठोर धारणाएं होती है वो इतना खुलकर बातचीत कर पाएंगे और साथ ही संवेदनशीलता से जेंडर की समझ को अपने जीवन में देख पाएंगे।

दूसरे दिन का सत्र, पिछले दिन में हुई जेंडर आधारित हिंसा को आगे बढ़ाते हुए खुद से जुड़ी कहानियों और अपने जीवन में हिंसा को लेकर रहा। काफी डर और घबराहट के साथ मैंने इस सत्र को बनाया था और उससे भी ज्यादा घबराहट इस सत्र के क्रियान्वयन को लेकर रही क्योंकि अपने से जुड़ी बेहद निजी और ऐसी बातें जो उनके जीवन में हुई हिंसा से जुड़ी हुई है उसे 50 प्रतिभागियों और 2 लड़कियों के साथ सांझा करना बेहद मुश्किल हो सकता है। साथ ही ये सत्र बेहद जरुरी था, क्योंकि दूसरों के साथ होने वाली या हुई जेंडर आधारित हिंसा के बारे में बात करना कुछ हद तक आसान है, ये सोचना कि हिंसा दूसरो के साथ होती है मेरे साथ नहीं इस धारण को चुनौती देना दूसरा कारण था, तीसरा अपने साथ हुई हिंसा को बोल पाना, अपने जख्मों को दूसरों के साथ सांझा करना एक पल के लिए अपने आस पास बनाई गई दीवारों को तोड़ पाना उन घावों को ठीक करने के लिए पहला कदम बन सकता है। 

इसलिए पूरे विश्वास और हिम्मत के साथ इस सत्र की शुरुआत की। मैंने एक-एक करके कई वाक्य पढ़े, जिस प्रतिभागी को लगे कि वो वाक्य उसके जीवन की एक सच्चाई है उसे गोले में एक कदम आगे बढ़ना था। मेरा दिल इतने जोरों से धड़क रहा था कि मानो मेरी सांस रुक जाएगी, एक पल के लिए लगा कि ऐसे वाक्यों पर कोई भी आगे कदम नहीं बढ़ाएगा पर जो विश्वास हमने पिछले दिन बनाया था उसकी वजह से ये गोला एक सुरक्षा के घेरा जैसा बना, जहां प्रतिभागियों ने बिना झिझक के आगे कदम बढ़ाया।

ये एक्टिविटी काफी गहन और भावनात्मक तौर पर झकझोरने वाली रही, एक एक कदम और चेहरे के बदलते भाव, आंखों में झगड़ रहे आंसू, रुकती हुई सांसे इस बात का प्रतीक रही, पर एक दूसरे को देखते हुए प्रतिभागियों को खुद की सच्चाई सामने लाने में मदद मिली। जब भी कोई बात बेहद भारी लग रही थी, तो हम लम्बी सांस लेते हुए आगे बढ़ रहे थे।

इसके बाद हमने प्रतिभागियों को इन वाक्यों से जुड़ी कहानियों या भावनाओं को बड़े समूह में सांझा करने के लिए आमंत्रित किया। ये एक और बेहद मुश्किल घड़ी थी पर अब तक जो विश्वास स्थापित हुआ उससे ताकत लेते हुए प्रतिभागियों ने लगभग 2-3 घंटों तक एक एक करने अपने जीवन से जुड़ी बेहद अन्तरंग बातों और भावनाओं को बांटा। 

मैंने आज तक ये बात सिर्फ शराब के नशे में बांटी है लेकिन पता नहीं आपने क्या कर दिया कि मैंने पूरे होशो-हवास में आप सबके साथ अपने दिल की बात बांटना चाहता हूं। ये किसी जादू से कम नहीं है
हम सभी पिछले 7 महीनों से एक साथ है लेकिन कभी भी ऐसे बैठकर बात नहीं की, किसी के बारे में पूछा नहीं। आप लोगों ने इस एक्टिविटी के जरिए हमें अपने दिल की बात कहने और दूसरों की बात सुनने का मौका दिया जो आज तक किसी ने नहीं दिया। इतना हलका महसूस हो रहा है, काफी शांत लग रहा है। अपनी दिल की बात बांटना कुछ गलत नहीं है, किसी के सामने भावुक होना गलत नहीं है। मुझे तो बेहद खुशी हो रही है
अपनी भावनाएं बताकर कभी इतना मजबूत महसूस नहीं हुआ। 

मैं बेहद खुश थी कि प्रतिभागी अपने जीवन के दर्द, दुख, चुनौतियों, हीन भावना, कुछ फैसलों को लेने का और कुछ कदम न उठाने का अपराध बोध आपस में बांट पाए। इस दौरान मर्द को दर्द नहीं होता पर एक बार फिर चर्चा छिड़ गई, और हर बात से पता चल रहा था कि ज्यादातर पुरुष क्यों नशा करते हैं, क्रोध क्यों करते है औऱ साथ ही कैसे मर्दानगी का दवाब उनके मानसिक स्वास्थ्य से खिलवाड़ करता है।

सत्र के खत्म होने के बाद भी प्रतिभागी वर्कशॉप की जगह को छोड़कर जाने को तैयार नहीं थे, कुछ शांति से बैठे हुए थे, तो कुछ एक दूसरे से बात कर रहे थे और कुछ एक दूसरे को गले लगकर अपना स्पोर्ट दिखा रहे थे। क्या एक नई बात नहीं है जहां भावुकता पुरुषों के लिए किसी वर्जित सीमा को पार करने जैसा हो वहां ये प्रतिभागी अपनी भावनाओं को दर्शाने के साथ साथ दूसरों की भावनाओं को सम्मान देते और एक दूसरे की परवाह करते दिख रहे थे। शायद इससे ज्यादा मुझे कुछ नहीं चाहिए था J